पेट में दर्द होने के बाद छात्रा को लेकर जब हॉस्पिटल पहुंचे माता-पिता, वजह जानकर उड़े होश


0

सोशल मीडिया के माध्यम से हम आये दिन हैरान कर देने वाले खबरों को पढ़ते है. कभी कभी इन खबरों पर यकीन कर पाना काफी मुश्किल सा हो जाता है. हमारे आस पड़ोस में ही ऐसी घटनाये हो जाती है जिसे सुनकर हम दंग रह जाते है. कुछ ऐसा ही एक माला प्रकाश में आया है जो काफी हैरान करने वाला है. यह घटना दिल्ली से सटे साहिबाबाद थाना क्षेत्र में की है. यहाँ की एक कॉलोनी में नौवीं की छात्रा को पेट दर्द की शिकायत हुई जिसके बाद परिजन डॉक्टर के पास ले गये लेकिन जब डॉक्टर ने लड़की का चेक अप किया उसके बाद जो डॉक्टर ने बताया उसे सुनकर लड़की के माता पिता के होश उड़ गये.इसके बाद छात्रा ने अपने परिजनों को सच्चाई बताई.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, छात्रा के साथ दुष्कर्म हुआ था जिसके बाद वो गर्भवती हो गई थी. छात्रा के पेट में दर्ज होने पर परिजन उसे डॉक्टर के पास ले गए जिसके बाद उन्हें पूरे मामले की जानकरी हुई.आरोप है कि पड़ोस में रहने वाला एक युवक छात्रा के डरा धमकाकर पिछले कई माह से दुष्कर्म कर रहा था. पीड़ित छात्रा के परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है. छात्रा परिवार के साथ साहिबाबाद थाना क्षेत्र की एक कॉलोनी में रहती है. वह एक निजी स्कूल में नौवीं की छात्रा है.

बृहस्पतिवार शाम को पीडिता के पेट में दर्द शुरू हो गया. परिजन छात्रा को एक नज़दीक के हॉस्पिटल ले गये, जहां डॉक्टरों ने परिजनों को बताया कि वह पांच माह की गर्भवती है. छात्रा ने परिजनों को बताया कि करीब पांच माह पूर्व युवक जुबेर ने उसे किसी काम से घर पर बुलाया था, जहां पर उसके साथ दुष्कर्म किया.विरोध करने पर जुबेर ने जान से मारने की धमकी दी.इसके बाद जुबेर छात्रा को डरा धमकाकर दुष्कर्म करता रहा.

इस परिवार का यह आरोप है कि जुबेर की मां जुमीला व उसके भाई जीशान और शाहरुख को इस घटना के बारे में पता था.सभी ने जुबेर का साथ दिया.साहिबाबाद थाना प्रभारी निरीक्षक दिनेश कुमार ने बताया कि बृहस्पतिवार देर रात छात्रा के परिजनों ने आरोपी जुबेर पर दुष्कर्म करने और अन्य तीन पर साजिश रचने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है. मोहन नगर के पास से आरोपी जुबेर को शुक्रवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया.मामले की जांच की जा रही है.

जाने माने और वरिष्ठ मनोचिकित्सक डा. हिमांशु पांडेय का कहना है कि बच्चों से दोस्तों की तरह पेश आएं, जिससे बच्चे हर तरह की बात बेझिझक बता दें। यदि ऐसा नहीं करते हैं तो बच्चों का उत्पीड़न होता रहता है और बच्चों के साथ जघन्य अपराध हो जाता है. बच्चों को गुड और बैड टच के बारे में बताएं.बच्चों के साथ समय बिताएं और उनकी गतिविधियों पर नजर रखें. यह भी ध्यान दें कि उनकी संगत में किस तरह की बच्चे हैं। बच्चों को डांटे नहीं प्यार से समझाएं कि क्या सही और क्या गलत है.


Like it? Share with your friends!

0
News Fellow

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *